Maro Mere Saath! (Mohit Trendster)

Views:
 
Category: Entertainment
     
 

Presentation Description

No description available.

Comments

Presentation Transcript

slide 1:

भयो भेये साथ

slide 2:

फााधव नाभक छोटे से गााव भे आज देय यात फ ह ुत हरचर थी. याजजश के चरते 2 ऩरयवायो की हतमा कयके ऩडोसी गााव झभेर का ननवासी पकाश गााव भे से बागने की फपयाक भे था ऩय भ ृत ऩरयवायो के ऩडोससमो दवाया शोय भचामे जाने ऩय धीये-धीये मे खफय गााव के भ ुख म बाग भे आग की तयह फ़र गमी. सबी गााववारो भे पकाश की इस हयकत ऩय आकोश था. राठिमाा औय रारटेन सरए ज़से साये गााववारे आज फाहय ननकर आमे थे. ऩय गााव की फाहयी सीभा ऩय फनी क ुछ झोऩडडमो तक मे हरचर अबी नहीा ऩह ुाच ी थी. जान फचाता ह ुआ पकाश वहाा तक ऩह ुाच च ुका था. " दय वाज ा खो र .... स ु श ी र .. भै त े या दो सत पका श ह ॉ.." स ु श ी र द यवाज ा खो र ता है तो हा ॊप ता ह ु आ पका श उस क े घय भे आ घ ु स त ा है . पका श - त घय भे अ क े र ा है स ु श ी र स ु श ी र - हा ॉ भ े यी फीवी त म ौ हा य ऩय अ ऩन े भ ा म क े गम ी है .. र े क क न त इत न ा ऩय े श ा न क म ो रग यहा है स ुशीर के सवार का उततय देने के फजामे पकाश ने उसके सय ऩय जोयदाय वाय फकमा जजस से स ुशीर फेहोश हो गमा. तबी पकाश के ऩीछे आते गााववारे दयवाजा ऩीटने रगे ....क ुछ रोगो ने द ूय से पकाश को स ुशीर के घय भे घ ुस ते देख सरमा था. स ुशीर की झोऩडी के फाह य शोय-ग ुर फढता जा यहा था. गााववारो ने आवाज रगामी . " स ु श ी र दय वाज ा खो र ो ....." क ा प ी द े य तक क ो ई ज वा फ ना आ न े के फाद आ क ो श श त ब ी ड से ब डक े ह ु ए सवय आ न े र ग े . " अ य े स ु श ी र तो पका श का ज ज गयी दो सत है ना.." " वो दय वाज ा न ही ॊ खो र ेगा ."

slide 3:

" स ु श ी र बी पका श से श भ र ग म ा र ग ता है .." " ज ज ॊ दा ज र ा डा र ो .. उन दो न ो को .. म ही ॊ उन ऩाप ऩ म ो का अ ॊ त तभ स ॊसका य कय डा र ो ." आकोसशत ज न स भ ूह की सोचने सभझने की ऺभता ऺीण हो जाती ह़..आज ननदोष स ुशीर शामद इस आकोश की बेट चढने वारा था. पकाश की डय से नघगगी फाध गमी थी.....फचने का यासता ढ ूाढती उसकी आाखो भे चभक आ गमी. देखते ही देखते बीड ने स ुशीर की झोऩडी जरा दी. पकाश स ुशीर के घय की पऩछरी खखडकी को तोडकय सयऩट बागता ह ुआ ऩीछे जागरो भे ग ुभ हो गमा. इधय झोऩडी के जरने से उिे ध ुएा ने अचेत स ुशीर की फेहोशी को तोडा ....ध ुएा से बये फाध घय भे उसका दभ घ ुटन े रगा ... अधधचेतना की हारत भे वो दयवाजा ढ ूाढन े रगा ....उसे दयवाजा तो सभरा ऩय तफ तक ऩ ूये घय औय उसके शयीय भे आग रग च ुकी थी. वो चचलराता औय तडऩता ह ुआ दयवाजा खोर कय फाहय की तयप बागा.......बीड भे से आवाज े आमी. " म ही है हत म ा या पका श .... भ ा य डा र ो इसे." फकसी ने उस जरती ..तडऩती औय ददध से कयाहती आक ृनत की ऩहचान जानने के फाये भे एक ऺण नहीा सोचा ..औय फाहय राठिमो -डाडो से उसे तफ तक ऩीटते यहे जफ तक वो फेजान नहीा हो गमी. गााव वारो का ऩागरऩन अफ जाकय शाात ह ुआ. तफ जाकय सयऩाच के रडके की नजय उस अधजरी राश के हाथ ऩय ऩडी जजस ऩय "ॐ" aur "स ुशीर " सरखा ह ुआ था. मे फात बीड भे प़री औय फकसी को सभझते देय ना रगी की मे पकाश नहीा स ुशीर ह़. क ुछ रोगो ने फाहय से स ुशीर की स ुर गती झोऩडी का भ ुआमन ा फकमा तो ऩता चरा की भौका देख कय पकाश बाग च ुका था. गााव वारो को अऩनी गरती का एहसा स तो ह ुआ ऩय अफ देय हो च ुकी थी. ख ुद को फचाने के सरए उनहोने ऩ ुसर स के साभने मे कहानी फनाने का ननणधम सरमा की पकाश के साथ स ुशीर बी हतमाओ भे शासभर था औय उग बीड ने उसे भाय डारा ....जफफक पकाश पयाय हो गमा. ऩ ुसर स इस घटना भे उमभीद से जलदी आ गमी औय कागजी कामधवाही राश काऩाचनाभा औय थोडी ऩ ूछ-ताछ कयके चरती फनी . सयऩाच ने सथानीम ऩ ुसर स थाने के इनचाजध को अऩनी ऩयेशानी फताई . तो उस सटेशन अपसय ने उनहे तसलरी दी.

slide 4:

" अ य े स य ऩॊ च जी .... ऐस ा तो गाॊवो भे अ क स य हो ज ा म ा क यता है .... इस ऩय ऩ य े गाॉव को अ ऩया ध भे न ा भ ज द थ ो ड े ही क य े ग े." अगरे ठदन तडके स ुशीर की ऩतनी येखा अफ तक स ुर ग यही अऩनी झोऩडी के ऩास ऩह ुाच ी औय दहाड भाय कय पवराऩ कयने रगी ....वो गााव वारो से अऩने ऩनत की गरती ऩ ूछन े रगी ..औय ऩ ूये ठदन ऩागरो की तयह फ ेस ुध गााव भे घ ूभती यही. ऩय गााव वारो ने उस से द ूयी फनामीा यखी ..कमोफक वो स ुशीर को अऩयाधी फता कय अऩनी गरती छ ुऩान ा चाहते थे..इस काभ भे सफसे आगे थे गााव के सयऩाच जजनका भानना था की गााव की बराई के सरए एक-दो रोग भय बी जाए तो कमा आपत आ जामेगी . अऩने ख ुशहार जीवन भे अचानक आमे इस फदराव को वो क़से सहन कय ऩाती फाय -फाय उसने हय दयवाजे ऩय इासाप भाागा ऩय कोई दयवाजा नहीा ख ुर ा....फकसी का ठदर नहीा ऩसीजा . येखा को कहीा से इासाप तो नहीा सभरा ऩय हाा जलद ही ऩागर होने का दजाध सभर गमा. गााव वारे बी स ुशीर से ज ुडी हय फात को दफा देना चाहते थे.....औय येखा उनके सरए आगे चरकय खतया फन सकती थी. ऩागरखाने की गाडी आई औय ऩागरखाने के कभधचायी उसे जफयदसती ऩकड कय रे गए. उस यात खफय आई की ऩागरखाने की गाडी का एकस ीडेट हो गमा ह़ औय वो खाई भे जा चगयी....फकसी के जजादा फचने की उमभीद नहीा थी.... उसी यात येखा गााव भे रौट आई औय अऩने घय की याख ऩय फ़ि कय बमानक अटहास कयने रगी ....आधी यात के फाद सफके दयवाजे खटका कय वो सफसे चीखती ह ुई कह यही थी. " उन हो न े भ ु झ े फ च ा श र म ा ....अफ वो त ु भ स फ स े श भ र न ा च ा हत े है .... फाहय आओ... दयव ा ज ा खो र ो ." वो जजादा थी....गाावबय भे ससयहन सी दौड गमी. अधध -चेतना औय अजीफ सी नशा कयने के फाद ज़सी हारत भे येखा गााव के फीचो -फीच आमी जहाा अकसय गााव की चौऩार औय ऩाचामत रगा कयती थी. उसका अटहास औय ख ुद से फ ाते कयना ननयातय जायी था....अचमबे की फात मे थी की उसकी आवाज ऩ ूये गााव भे ग ूाज यही थी....अफ तक नीाद से उि च ुके गााव वारो को वो आवाज पवचसरत कय यही थी. गााव के दो

slide 5:

भशह ूय ऩहरवान उसकी ऩयेशान कय देने वारी हसी औय आवाजो को योकने के सरए उसके ऩास ऩह ुाच कय उसे ऩीटने रगे ....ऩय उनके आशचमध की सीभा ही ट ूट गमी जफ उनके भायने ऩय उसकी धवनन औय अटहास औय तेज होते चरे गए....जफ उनभे से एक ऩहरवान ने येखा ऩय ग ुस स े भे आकय डाडे से वाय फकमा तो येखा का अटहास रका ....ऩय उसकी आवाज अफ बायी औय भदाधना फन गमी थी....येखा ने दोनो ऩहरवानो की गदधन ऩकड कय उनके ससयो को जभीन भे गाड ठदमा औय दोनो की गदधन ऩकडकय उनहे जभीन भे घसीटती ह ुई दौडने रगी औय तफ तक दौडती यही जफ तक उन ऩहरवानो के सय धयती के घषधण से गामफ नहीा हो गए. अऩने यकत - याजजत हाथो के साथ वो फपय गााव के फीचो -फीच ऩह ुाच ी. उसकी आवाज फपय से एक भठहरा ज़सी हो गमी. ऐसा रगा ज़से वो अऩने ठदवागत ऩनत से फात कय यही हो. य े खा - " ऐ जी स ु त न ए ना.... द े ख खम े क क तनी द े य से हभ गाॉ व वारो को आ वाज र गा यह े है ... औय क ो ई दयव ा ज ा ही न ही ॊ खो र ता ." येखा के इतना कहने की देय थी की ऩ ूये गााव की झोऩडीमो औय ऩकके घयो के खखडकी -दयवाजे उखड -उखड कय उस सथान ऩय जभा होने रगे जहाा येखा खडी थी. गााव वारे दहशत भे स भ ूहो भे घय से फाहय आमे.....येखा के हाव-बाव औय आवाज दोफाया फकसी आदभी ज़सी हो गमी. य े खा - " अ ऩ न ी तस स र ी क यन ा फॊद क यो आ त भ ा ओ को क ही ॊ आ न े- ज ा न े से मे ख खडक ी म ा ॊ दयव ा ज े .... न ही ॊ यो क स क त े . आज से इस गाॉ व के क क स ी घय भे क ो ई ख खडक ी मा दयव ा ज ा न ही ॊ हो गा ..... स ु श ी र की भ ौ त का ह हस ा फ ऩ य े गाॉव को द े न ा ऩड े गा .... ऩ य े गाॉव ऩय आ प त ट ट े ग ी.... य े खा अ ऩन े भ ा म क े जा यही है ....औय मे इस गाॉव से ज ज ॊ दा त न क र न े वा र ी आ खयी इ ॊ स ा न हो गी .... औय हा ॉ कर से ज ा न कय मा अ न ज ा न े भे क ो ई क ा भ क क स ी के स ा थ भत क यन ा ..... ज ै स े भ ै न े पका श के स ा थ क क म ा था." इतना कहकय येखा फेहोश हो गमी औय उसका अचेत शयीय गााव वारो के साभने से उडता ह ुआ उनकी आाखो से ओझर हो गमा. सबी भे डय औय दहशत फ़र गमी....सयऩाच स ुख याभ की चचाताएा फढ गमी. " यो त े या ..... वभ ा ा .... ऩाह टर .... आओ औय फाक ी 2-4 खा र ी फैठ े ह वालदा यो को स ा थ रे रो ."

slide 6:

" ऩय स ा ह फ ऩोसट भ ा ट ा भ की ड म ट ी तो क ा ॊसट े फ र वभ ा ा औय ऩाह ट र की र गी है .... हभ र ो ग वहाॊ कम ा क य े ग े" " न म ी ब ती ह ु ई है दो न ो की .... कह यह े है की डय रग य हा है .... म हा ॉ सफ थ ा न े भे बी भ ख ख म ा ॉ भ ा य यह े है .... वहाॊ च र क य इन दो न ो से तप यी ह र े ग े .... आओ." फााधव औय झभेर गााव का ऩ ुसर स थाना इाचाजध यभन तरवाय नमाम औय तफती श कयने से फचता था कमोफक वो आयाभ से अऩनी सयकायी नौकयी चराना चाहता था. ऩोसटभाटधभ सथर ऩय मे ऩ ुसर स दर भसती के भ ूड भे 2 नए ससऩाठहमो जीत वभाध औय पदीऩ ऩाठटर को हासम का ऩात फना यहा था जजनके साभने स ुशीर की राश का ऩोसटभाटधभ हो यहा था औय वो दोनो उसे देख नहीा ऩा यहे थे कमोफक उनहोने ऩयसो ही इस थाने से अऩनी नौकयी श ुर की थी. इ ॊ सऩ ेकट य यभ न त र वाय - क ा ॊसट े फर ऩाह ट र .... भै त ु म ह े आ ड ा य द े ता ह ॉ की त ु भ उ र टी कय रो ... हा हा हा .... काासटेफर योतेया - सय जी आऩने तो ऩाठटर को उरटी कयने को कहा था.....औय महाा तो वभाध उरटी कयने रगा ....हा हा...फदतभीजो जो थानेदाय साहफ कहे ससपध उतना ही कयो.....ऩाठटर त ुमहे सय जी ने उरटी कयने को कहा था औय त ुमहे चककय आ यहे ह़.....देख अफ सय जी तेयी 2 ठदन की तनखवा कटवा देगे.....हा हा हा...... ऩोसटभाटधभ कय यहा डॉकटय ऩ ुसर स वारो के भजाक से पवचसरत हो यहा था. डॉ कट य - आऩ र ो ग क ृ ऩ ा क यक े च ु ऩ हो ज ा इए ..... भै र ा श का ऩोसट भ ा ट ा भ न ही ॊ कय ऩा यहा ह ॉ. इ ॊ सऩ ेकट य यभ न त र वाय - अ य े डॉ कट य हभ क ौ न सा म हा ॉ फाय डा ॊ स कय यह े है जो भ ु द ा ा ड डसट फ ा हो ज ा एग ा . .......औय वातावयण फपय से ऩ ुसर स ऩाटी के िहाको से ग ूाज उिा. डॉ कट य - मे.... कम ा हो यहा है ....मे न ही ॊ हो स क ता ..... इस क ा तो 70 पततश त श यी य जर च ु क ा है औय इ स े Third Fourth-Degree Burns आ म े है ...... तफ बी .....

slide 7:

डॉकटय की फात ससऩाही योतेया ने फीच भे ही काट दी. क ा ॊसट े फ र यो त े या - कम ा हो गम ा डॉ कट य स ा ह फ .... द े ख रो क ही ॊ ड े ड फॉडी को स ा इड भे क यक े ऩाह टर ना र े ट गम ा हो ..... ऩय योतेया की फात ऩय डॉकटय ने अजीफ सी हयकत की औय वो कभया छोड कय बाग गमा. इ ॊ सऩ ेकट य यभ न त र वाय - अफ इस क ो कम ा हो ग म ा ऩाह ट र व भ ा ा की फीभायी इस े रग ग म ी कम ा क ा ॊसट े फ र ऩाह ट र - सय म.. म हा ॉ क ु छ गड फड है . यभन तरवाय औय उसके ससऩाही राश के ऩास ऩह ुाच े. क ा ॊसट े फ र यो त े या - सय... इस े तो भ या ह ु आ स ी र क क म ा था ह भ न े . डॉ क टय इ स क ा श यी य क टा ह ु आ छ ो ड गम ा है ..... औय कपय बी इस क े क ट े - ज र े श यी य भे ह द र ध डक य हा है .... इ ॊ सऩ ेकट य यभ न त र वाय - फडी स ख त ज ा न है .... वलड ा र यक ॉ ड ा फ न ा ग े या इस न े तो .... चर फ ेटा त ऩह र े न ही ॊ भ ा या तो त ु झ े हभ भ ा य द े ग े.... द े खो तो क भ ी न े की स ा ॉ स े न ो भ ा र चर यही है ..... श यी य ह हर यहा है ..... अचानक स ुशीर का कटा औय अधजरा ठहरता ह ुआ शयीय उि फ़िा औय इासऩेकटय यभन की तयप देख कय फोरने रगा . " औय द े ख क भ ी न े भै तो फोर न े बी र गा ." यभन तरवाय औय उसके सबी काासटेफरस थय-थय कााऩने रगे . ऩाठटर औय वभाध इस अपतमासशत झटके से फेहोश हो गए. औय स ुशीर के चरते -फपयते शयीय ने इासऩेकटय औय काासटेफर योतेया के साथ आमे हवालदायो को ऩकडा ....औय उनहे उनके ऩ़यो से ऩकड कय जभीन औय छत ऩय फदहवास हारत भे तेज -तेज भायने रगा . क ुछ ही ऺणो फाद उन दोनो के शयीय क ुच र े ह ुए से औय ननजीव हो गए. ऩय स ुशीर के शयीय को अबी च़न कहाा सभरा था.....

slide 8:

" ड म ट ी तो इन दो नए श स ऩह हम ो की र गी थी ऩय इन क े स ा थ आ क य त ु भ न े अ ऩ न ी भ ौ त फ ु र ा री . भ य न े के फाद म ा द य खना क ब ी क क स ी का स ा थ भत द े न ा.... ज ै स े भ ै न े पका श का ह दम ा था. चर इ ॊ सऩ ेकट य .... द े ख भ े या श यी य .... द े ख भ े यी ज र ी ह ु ई अ ॊ तड डम ा ॊ ..... भै त ु झ े आ ड ा य द े ता ह ॉ की त उर टी कय ..... कय ना.... कम ा ह ु आ... हा हा हा हा .... च ककय आ यह े है भ ु झ े उन र ो गो ने ज र ा म ा .... ऩी टा औय भ ा य डा र ा ऩय त न े क ु छ न ही ॊ क क म ा ..... ऩहरे आग भे भ े या हा थ ज र ा .... " स ुशीर ने इासऩेकटय यभन का हाथ ऩकडा औय यभन का हाथ अऩने आऩ जरी अवसथा भे आ गमा औय वो ददध से तडऩने रगा . " कपय भ ेया सय..... ज ै स े अफ त े या ज र ा .... कपय उस क े फाद भ े यी आ ॉ खो के स ा भ न े अ ॉ ध े या छा गम ा ... ज ै स े त े यी आ ॉखो के स ा भ न े छा यहा है ..." काासटेफर योतेया अफ तक हॉजसऩटर की फारकनी भे बाग यहा था.....औय उसका यासता योका स ुशीर ने ..... स ुशीर - ऩोसटभाटधभ भे फ ह ुत भजा आता ह़ ना ....कमो योतेया साहफ ....ऩहरे चीया रगामा जाता ह़..... स ुशीर अऩने न ाख ून से आयऺी योतेया के शयीय भे चीया रगाता चरा गमा औय जड ऩय ददध से चीखता योतेया का शयीय फेजान होता चरा गमा. इासऩेकटय यभन औय उसके साथी भाये गए. आयऺी वभाध औय आयऺी ऩाठटर .....होश भे आने के फाद बी सदभे के कायण क ुछ फताने की जसथनत भे नहीा थे......स ुशीर की राश अऩनी जगह ऩय ऩडी थी. फााधव गााव के ननकट हरयमारी से बया फडा ऩिाय इराका था. जहाा गााव की आभदनी का एक जरयमा भवेसशमो के झ ुा ड चयने औय वहीी जसथत झीर ऩय अऩनी पमास फ ुझान े गए थे. ऩय उनभे से फ ह ुत कभ ही रौट कय गााव आमे...जफ क ुछ गााव वारो ने अऩने घयो की छत ऩय चढकय देखा तो ऩिाय ऩय ननयीह जानवयो की राशो से फने मे शबद सरखे थे.

slide 9:

" ब ख औय पमा स तो क ु छ ही ज ा न वयो को र गी थी. फाक ी सफ फ ेच ा य े तो बेडचार भे उन क े स ा थ आ गए .... औय जो क क स ी द स य े के क ा भ भे उ स क ा स ा थ द े गा वो भ य े गा .... ज ै स े भै भ या था पका श का स ा थ द े न े ऩय." फााधव वाससमो का ध़मध ट ूटता जा यहा था ऩय वो क ुछ कय बी नहीा सकते थे. अफ उनहे फस ऊऩय वारे का सहाया था. " अ र खत न य ॊ ज न ..... जम फाफा ब ो र े न ा थ.... गाॉव वारो हभ है फाफा श ी र न ा थ औय इस गाॉव की प े त फाधा ह भ े ह भ ा यी स ा ध न ा से म हा ॉ खी ॊच र ा म ी है . म हा ॉ क ु छ घ ो य अ ऩ श ग ु न के म ो ग फन यह े है .... ऩय हभ सफ द य क य े ग े.... औय ह भ ा यी श ज कत ऩय स ॊ द े ह ना क यन ा क म ो क क हभ गाॉव के एक क ो न े से फो र यह े है वो स ॊ द े श ऩ य े गाॉव भे ग ॉ ज य हा है . आज उस द ु ष ट ा त भ ा के ऩ व ा त न वास के त न क ट ह भ न े स ा भ ह ह क स ा ध न ा का स ॊक ल ऩ श र म ा है ज ज स भ े ज म ा दा से ज म ा दा गाॉव वा स ी आ क य उस द ु य ा त भ ा को स द ै व के श र ए म हा ॉ से ब गा न े के पम ा स भे ह भ ा या स ह म ो ग क य े. फभ फभ ब ो र े " फाफा शीरनाथ की फात ही गााव वारो को इस पवकट सभसमा से ननऩटने का एकभात साधन रगी औय इस वजह से फ ह ुत से गााव वारे साधना भे शासभर होने भ ृत स ुशीर के घय के ऩास फाफा दवाया फनामे गए सा धना सथर ऩय एकत ह ुए. फाफा शीरनाथ ने अऩनी आयाधना श ुर की...उनका भातोचाय फढता जा यहा था औय धीये धीये गााव वासी भातो के पबाव से भदहोश होते जा यहे थे. " आ....... आह ......" तबी ददध से तडऩते क ुछ रोगो की इस आवाज ने सफको चौका ठदमा....मे चीाखे अरग थी...ऐसी चीाखे फकसी ददधनाक भौत से ऩहरे ही स ुन न े को सभरती ह़. सहभे रोगो ने आा ख े खोरी तो साभने का नजाया देख कय यौशनी से साभाजसम फनाती उनकी आा ख े दहशत से पटने को हो गमी. फाफा शीरनाथ की जगह स ुशीर की आतभा वहाा फ़िे क ुछ गााव वारो को साधना सथर ऩय फने फडे से हवन क ुाड भे झोक यही थी....

slide 10:

स ु श ी र - अ य े सफ ह ै या न कम ो हो यह े है ऩह र े क ब ी स ा ध न ा न ही ॊ द े खी क म ा ... अफ स ा ध न ा भे भ ॊत हो त े है ध म ा न र गा म ा ज ा ता है हवन हो ता है .... औय हव न भे आ ह ु त त म ा ॉ दी ज ा ती है ..... इस तयह .... हा हा हा हा हा हा ...औय बोरे फाफा ऩय सादेह न कयना . हभ ब ूत ही तो बोरे फाफा के गण होते ह़. स ुशीर ने एक व ृद के फार ऩकड कय उनहे हवन क ुाड भे डार ठदमा. स ुशीर - आऩ रोग तो साथ भे ह़ तो डयना क़सा ....ऩय भैन े ऩहरे फकतनी फाय सभझामा ह़ की अगय फकसी का साथ दोगे तो भाये जाओगे ....ज़से भ़ भया था अऩने दोसत का साथ देते... रोगो ने बागना चाहा ऩय उनका यासता आतभाओ के अवयोध ने योक सरमा . स ु श ी र - मे ब टकत ी र हो की दी वाय है . अ त ृ प त आ त भ ा एॊ... स े ठ जी . ध यती ऩय भ न ो य ॊ ज न का भ ौ क ा इ न ह े कभ ही श भ र ता है .... इस श र ए भ ै न े इन स फको अ ऩ न ा स ा थ ी फ न ा श र म ा . ऩय फााधव के ऩाडडत ऩाडडत जी अऩने साथ ऩपवत जर का ऩात रामे थे. उनहोने उसका जर रहो की दीवाय ऩय पेका जजस से उस दीवाय की आतभाएा तडऩी औय उसभे ऺखणक यासता फना जजस से ऩाडडत जी सभेत गााव के क ुछ रोग बागे....वो सफ अबी क ुछ द ूय ही बागे होगे की एक पवशारकाम फवाडय ने सफको ख ुद भे सभाा सरमा औय फपय से साधना सथर ऩय रा ऩटका.. सबी इस आकजसभक झटके से उफय ही यहे थे की उनहे फपय से ग ुस स े से प ुप कायती स ुशीर की आक ृनत ठदखी . "मे आ ऩन े अ चछा न ही ॊ क क म ा ऩॊडडत जी ... फ ह ु त ज र न हो ती है द ु ष ट आ त भ ा ओ को ऩप वत जर से... ऐसे..." स ुशीर ने जभीन ऩय ऩडे ऩाडडत जी ऩय तेजाफ की क ुछ फ ूा दे डारी . औय ऩाडडत जी फ ुयी तयह तडऩ उिे.

slide 11:

" ब फ र क ु र ऐ स ी ही ज र न ज ै स ी अफ आ ऩको हो यह ी है ... र गता है त े ज ी से ग गय न े के क ा यण आ ऩक े ऩैय ट ट गए है .... हा म ये मे भ ु झ अ ब ा ग े से कम ा हो ग म ा .... भै तो ऩाऩ का ब ा गीदा य फन गम ा .... औय... औय आ ऩ क ा ऩपवत जर का र ो टा आऩ से द य वहाॊ ऩडा है .... श ा म द उसभ े अ ब ी बी जर हो ..." फपय ऩाडडत जी ऩय रगाताय तेजाफ की फारयश होने रगी . ऩाडडत जी की हौरनाक चीाखे उफरने रगी ...उनका शयीय झ ुर स न े गरने रगा . ऩाडडत जी अऩने जीवन को फचाने की आखयी उमभीद ऩपवत जर के ऩात की तयप जभीन ऩय चगसटने रगे . स ुशीर - " हा ॉ ऩॊडडत जी ....आऩ कय स क त े है .... भ ु झ े आऩ ऩय ऩ य ा प वशव ा स है ... ज ो य र गाइ म े ऩॊडडत जी .. उठ न े की क ो श श श क ी ज ज म े ..." ऩय ऩाडडत जी का साघषध जलद ही उनकी जीवनरीरा के साथ सभापत हो गमा. फपय स ुशीर ने वहाा फाकी फचे कयाह यहे गााव वारो ऩय बी यहभ नहीा फकमा औय उनहे भाय डारा . स ुशीर की आतभा ने ऩ ूया गााव ही रीर सरमा था. अफ केवर गााव का सयऩाच स ुख याभ औय उसका ऩरयवाय फचा था जजसभे ससपध उसका एकरौता फेटा पवकाात औय ऩ ुतवध ू मासभनी थी. स ुख याभ की ऩतनी फ ह ुत ऩहरे ही चर फसी थी. स ुख याभ की ऩ ुतवध ू मासभनी के गबध का नवाा भठहना था औय उसे हरकी पसव ऩीडा हो यही थी....ऩय स ुख याभ नहीा चाहता था की मासभनी द ूस ये गााव के असऩतार जाकय फचचे को जनभ दे....कमोफक इसभे फ ह ुत खतया था....जफफक पवकाात अऩनी ऩतनी की ऩीडा देख नहीा ऩा यहा था. " प ऩता जी भ ु झ े म ा श भ न ी को अ सऩतार रे ज ा न ा ही ऩड े गा ." मासभनी की च ीख े औय घय भे तनाव फढता जा यहा था. स ुख याभ का डय जामज था ऩय पवकाात के सब का फााध ट ूटन े की कगाय ऩय था.

slide 12:

स ु ख य ा भ- फ े टा... म ा श भ न ी से ज म ा दा दद ा तो उ स क ी हा र त द े ख कय भ ु झ े हो यहा है . ऩय वो दरय ॊ दा त ु भ दो न ो के स ा थ श ा म द उस अ ज न भ े फ चच े को बी न ही ॊ छ ो ड े गा .. प वका ॊत - जो हो गा वो हभ ा य े हा थ ो भे न ही ॊ है ऩय हभ जो कय स क त े है वो तो हभ े क य न ा च ा ह हए . स ु ख य ा भ - वो त ु म ह े भ ा य द े गा प वका ॊत . प वका ॊत - भय तो म ा श भ न ी ज ा म े गी अ गय वो अ स ऩ ता र न ही ॊ ऩ ह ु ॊ च ी औय अ गय भ ेयी ऩत न ी औय स ॊता न भय ज ा म े ग े तो भ ेया ज ी न ा बी कम ा ज ी न ा हो गा ... प ऩता जी भै ता ॊगा तैमाय क यता ह ॉ आऩ घय की यखवा र ी क ी ज ज म े . द े खना हभ र ो ग ज ल दी ही श ु ब स भ ा च ा य र े क य र ौ ट े ग े. आ ऩक े ऩोत े मा ऩोत ी के स ा थ. स ुख याभ ने अऩने फेटे को सभझाने की राख कोसशश की ऩय आखखय भे भज फ ूय स ुख याभ को ना चाहते ह ुए बी अऩने फेटे के ननणधम के आगे झ ुकन ा ऩडा ...अऩने ऩरयवाय के फचने की साबावना कभ देख कय स ुख याभ का भन बय आमा...अऩनी आाखो भे आमे आा स ू भ ुजश कर से थाभकय उसने पवकाात को आशीवाधद ठदमा... स ु ख य ा भ - .... ज ी ता यह भ े य े फ ेट े... भ े यी उम बी त ु झ े रग ज ा ए . प वका ॊत - च र ता ह ॉ प ऩता जी जम या भ ताागे के ऩगडाडी भे गामफ होने तक स ुख याभ उनहे नतहायता यहा औय फपय दहाड भाय कय जभीन ऩय ऩडा योने रगा ...ज़से वो भान च ूका था की अफ उसके अऩने कबी नहीा र ौटेगे. ताागे के क ुछ द ूय जाने ऩय एक चोगाधायी रािी सरए व ृद से वमजकत ने उनहे योका.... " यो क ो .... यो क ो ... फ े टा भ ु झ े फच ा रो ... उस श ै ता न आ त भ ा से ज ज स न े ऩ य ा ग ा ॉव र ी र श र म ा ...."

slide 13:

प वका ॊत - फाफा भ ु झ े ज ा न े दो भै फ ह ु त ऩय े श ा न ह ॉ. " भै बी फ ह ु त ऩय े श ा न ह ॉ फ े टा. इतना स भ झा म ा स फको की क क स ी का स ा थ भत दो...... भ ा य े ज ा ओ ग े ऩय क ो ई भ ा न ता ही न ही ॊ ." पवकाात सभझ च ुका था की मे स ुशीर की आतभा ह़....ऩय अफ तक देय हो च ुकी थी. स ुशीर चरते ताागे भे ही फ़ि गमा. स ु श ी र - ता ॊगा यो क र े त े ... द े खो ज लदफ ा ज ी भे भ ेया च ो गा ऩीछ े छ ट ग म ा . ओह ब ा ब ी की हा र त तो ग च ॊ ता ज न क है . त ु म ह े तो ज लद से ज लद अ सऩ ता र ऩ ह ु ॊ च न ा च ा ह हए ... भै फता यहा था की क क स ी का स ा थ न ही ॊ द े न ा च ा ह हए आ ज क र की द ु त न म ा भे... वन ा ा इॊ स ा न को भ य न ा ऩडता है . म ा श भ न ी - ... आह .... हभ ..को भ ा फ कय दो.... हभ े छ ो ड ... दो..... स ु श ी र - अ य े ब ा ब ी आऩ र े टी यह ह म े ... ऐस ी हा र त भे स ा वध ा न ी फ ह ु त ज रयी है . आ ऩ न े भ ु झ े ऩह च ा न ा न ही ॊ भै स ु श ी र .. म ही ॊ गाॉव की स ी भ ा ऩय भ े यी झो ऩडी है ... थी... प वका ॊत - हभ न े त ु म ह ा य ा कम ा ब फ गाडा है स ु श ी र - ओ प ो घ भ कपय कय वही फात ... द े खो भै स भ झा ता ह ॉ... त ु भ ता ॊगा हा ॊक त े यहो .... पस व ऩीडा तो ब ा ब ी जी को हो यही थी फचच ा तो उ न ह े हो न ा था... म ा न ी क ा भ तो उन क ा था ऩय इ स भ े त ु भ उ न क े स ा थ क म ो आ गए अफ आ गए हो तो भ ु झ े क ो ई त ु भ स े द ु श भ न ी थ ो ड े ही है .... ग च ॊ ता भत क यो ब ा ब ी अ सऩता र ज रय ऩ ह ु ॉ च ेग ी... आ ख ख य स ु य क ऺ त ज न भ हय ज च च ा फच च ा का अ ग ध क ा य है . ऩय जो गरत ी ह ु ई है उस क ा पर तो ब ु ग त न ा ऩड े गा न फा फा.... ह म म म भ ् म भ

slide 14:

इतना कहते ही स ुशीर की रािी एक पयसे भे फदर गमी औय उसने पवकाात का एक ऩ़य काट ठदमा. पवकाा त ददध से चीाख उिा...इधय मासभनी अऩने ऩनत को ददध भे देख कय दोहये ददध भे चीतकाय भायने रगी .... स ु श ी र - क म ा फकवा स है ... क ै स े र ो ग है मे... ता ॊगा हा थ से च र ता है भ ै न े ऩैय क ा टा है ... उस भ े बी आ स भ ा न सय ऩय उठा श र म ा . ऩहरे ही स ु न रो त ु भ दो न ो की स ॊता न फडी श ै ता न हो गी ... ज ै स े त ु भ दो न ो के र ऺण है .... क श र म ु ग है ब ा ई क श र म ु ग फपय एक एक कयके स ुशीर ताागे को फकसी तयह चरा यहे पवकाात के अवमव काटता चरा गमा ससपध एक हाथ औय एक आाख को छोड कय. स ु श ी र - द े खो क ै स ा ऩतत है मे... ऩत न ी दद ा से भ यी जा यही है उस ऩ य ता ॊगा इ तना ध ी भ ा....ते ज च र ा ब ै म ा ... ओह त े य े क ा न तो फच ही गए . आखखयकाय पवकाात का ताागा झभेर गााव के असऩतार के आगे रका ...औय तबी अधकटे शयीयवारे पवकाात के पाण ऩखेर उड गए. मासभनी बी ददध औय द ु्ख से फेहोश होच ुकी थी. झभेर गााव ...पकाश का गााव जो इस साये फवार की जड था. वो ऩ ुसर स से फचने के सरए अऩने घय से बाग च ुका था. उसे बगोडा अऩयाधी घोपषत फकमा जा च ुका था. उसके घय भे ससपध एक ऩतनी थी वो दोनो ननसातान थे. यात के अाधेये भे वो अऩनी ऩतनी के ऩास ऩह ुाच ा. पका श - दयव ा ज ा खो र च ेत न ा भै पका श ... पकाश चेतना को फताता ह़ की उसने द ूस ये याजम के शहय प़जाफाद भे नौकयी कय री ह़ औय अफ वो वहीी अऩनी ग ृहस ती फ स ामेगे. वो दोनो यात के अाधेये भे अऩना कीभती साभान सभेट कय गााव से ननकरते ह़. यासते भे उनहे एक योते ह ुए नवजात की आवाज आती ह़. मे पवकाात

slide 15:

औय मासभनी का फचचा था जजसका जनभ अफ ताागे भे ही हो गमा था. मासभनी बी अफ तक भय च ुकी थी औय सयकायी असऩतार भे यात के वकत सननाटा ऩसया था. पकाश औय चेतना को जसथनत सभझते देय नहीा रगी की मे फचचा अफ अनाथ ह़.....दोनो ने एक द ूस ये की तयप देखा औय शामद दोनो ने एकसाथ आाखो भे ही फचचे को अऩनाने का भन फनामा औय फचचे को ताागे से उिाकय ननकर गए. दोनो जागर भे तेजी से बाग यहे थे वो गााव की सीभा जलद से जलद ऩाय कय रेना चाहते थे. फचचा चेतना के हाथो भे था क ुछ द ूय फाद ऩीछे से उसने फचचा पकाश को थभा ठदमा. थोडी देय फदहवास सा बागने के फाद ..पकाश को क ुछ भहस ूस ह ुआ. पका श - ओह मे फच च ा तो भ ु झ े क ा ट यहा है च ेत न ा . आह ... न ही ॊ मे भ ु झ े क ा ट न ही ॊ यहा इ स न े भ े यी गद ा न से भ ॉ स न ो च श र म ा मे भ ु झ े खा यहा है ... क ो ई ब त .. आ द भ खो य है . मे.... च ेतना ... च ेत न ा .. पकाश भे ससयहन दौड गमी..कमोफक चेतना ऩीछे नहीा थी औय उसका जवाफ उसका भॉस चफा यहे फचचे ने ठदमा. फचचे की शकर वीबतस हो च ुकी थी. पकाश ने फकसी तयह उस फचचे को ख ुद से अरग कय द ूय पेका. " वो न ही ॊ है ... उस क ो भ ै न े खा श र म ा .. औय भै ख ु द त ु म ह ा य े क ॊ ध े से आ र गा था भ ु झ े उसने न ही ॊ थ भ ा म ा था... पका श ." पका श - क ौ न है ... क ौ न है त " अ ऩ न े ज ज गयी म ा य की आ वाज बी ब र ग म ा ." पका श - स ु.. स ु श ी र " स ही ऩह च ा न ा . आ भ े य े गरे रग जा .. भ े य े दो सत ."

slide 16:

औय उडकय वो नवजात स ुशीर से चचऩट कय उसको खाने रगा . "मे फच च ा तो अ ऩन ी भ य ती ह ु ई भ ा ॉ की क ो ख भे ही भय ग म ा था.... वो तो इ स क ो भ े य े क ा भ आ न ा था इस श र ए ...." ज फफक इधय अऩने घय के दयवाजे के सहाये स ुख याभ ने ऩ ूयी यात काट दी.....अगरे ठदन बी वो वहीी ऩडा यहा. फपय यात भे उसका दयवाजा खटका . स ु ख य ा भ - प वका ॊत ... फ े टा "त ुमहाया ऩ ूया गााव औय ऩरयवाय तो फकसी न फकसी का साथ देते ह ुए भय गमा. त ुभ अकेरे जी कय कमा कयोगे डयो भत......आओ..... ....भयो भेये साथ " .......सभापत - भोठहत शभाध टेडी फाफा /Mohit Sharma Trendster

authorStream Live Help