Jai Ma Viabhav Laxmi

Views:
 
Category: Entertainment
     
 

Presentation Description

No description available.

Comments

Presentation Transcript

Jai Ma Viabhav Laxmi:

Jai Ma Viabhav Laxmi

PowerPoint Presentation:

Praise of Goddess Laxmi Ya raktambuj vasini vilasini Chandanshu tejasvini !! Ya rakta rudhirambera Harisakhi Ya Shree Manolhadini ! Ya ratnakarmanthanatpragatita Vishnosvaya gehini ! Sa mam patu Manorama Bhagavati Lakshmi Padmavati !! Significance: Oh Goddess, Laxmi One who resides in the red lotus, (one) who is graceful, who has glorious rays of divine (light) luster , who is completely reddish, who is clothed in the form of blood, who is beloved to God Vishnu, Goddess Laxmi , who gives happiness to the heart, who is created by churning of the ocean, one who is the wife of God Vishnu, one who is born from the lotus, who is extremely worthy to be worshipped kindly protect me.

PowerPoint Presentation:

Vrat katha

PowerPoint Presentation:

एक समय की बात है कि एक शहर में एक शीला नाम की स्त्री अपने पति के साथ रहती थी. शीला स्वभाव से धार्मिक प्रवृ्ति की थी. और भगवान की कृ्पा से उसे जो भी प्राप्त हुआ था, वह उसी में संतोष करती थी. शहरी जीवन वह जरूर व्यतीत कर रही थी, परन्तु शहर के जीवन का रंग उसपर नहीं चढा था. भजन-कीर्तन, भक्ति-भाव और परोपकार का भाव उसमें अभी भी था.  वह अपने पति और अपनी ग्रहस्थी में प्रसन्न थी. आस-पडौस के लोग भी उसकी सराहना किया करते थें. देखते ही देखते समय बदला और उसका पति कुसंगति का शिकार हो गया. वह शीघ्र अमीर होने का ख्वाब देखने लगा. अधिक से अधिक धन प्राप्त करने के लालच में वह गलत मार्ग पर चल पडा, जीवन में रास्ते से भटकने के कारण उसकी स्थिति भिखारी जैसी हो गई.     बुरे मित्रों के साथ रहने के कारण उसमें शराब, जुआ, रेस और नशीले पदार्थों का सेवन करने की आदत उसे पड गई. इन गंदी आदतों में उसने अपना सब धन गंवा दिया. अपने घर और अपने पति की यह स्थिति देख कर शीला बहुत दु:खी रहने लगी. परन्तु वह भगवान पर आस्था रखने वाली स्त्री थी. उसे अपने देव पर पूरा विश्वास था. एक दिन दोपहर के समय उसके घर के दरवाजे पर किसी ने आवाज दी. दरवाजा  खोलने पर सामने पडौस की माता जी खडी थी. माता के चेहरे पर एक विशेष तेज था. वह करूणा और स्नेह कि देवी नजर आ रही थ. शीला उस मांजी को घर के अन्दर ले आई. घर में बैठने के लिये कुछ खास व्यवस्था नहीं थी.   शीला ने एक फटी हुई चादर पर उसे बिठाया.   माँजी बोलीं- क्यों शीला! मुझे पहचाना नहीं? हर शुक्रवार को लक्ष्मीजी के मंदिर में भजन-कीर्तन के समय मैं भी वहाँ आती हूँ.' इसके बावजूद शीला कुछ समझ नहीं पा रही थी, फिर माँजी बोलीं- 'तुम बहुत दिनों से मंदिर नहीं आईं अतः मैं तुम्हें देखने चली आई.' माँजी के अति प्रेमभरे शब्दों से शीला का हृदय पिघल गया.माँजी के व्यवहार से शीला को काफी संबल मिला और सुख की आस में उसने माँजी को अपनी सारी कहानी कह सुनाई।

PowerPoint Presentation:

कहानी सुनकर माँजी ने कहा- माँ लक्ष्मीजी तो प्रेम और करुणा की अवतार हैं. वे अपने भक्तों पर हमेशा ममता रखती हैं. इसलिए तू धैर्य रखकर माँ लक्ष्मीजी का व्रत कर. इससे सब कुछ ठीक हो जाएगा.' शीला के पूछने पर माँजी ने उसे व्रत की सारी विधि भी बताई. माँजी ने कहा- 'बेटी! माँ लक्ष्मीजी का व्रत बहुत सरल है. उसे 'वरदलक्ष्मी व्रत' या 'वैभवलक्ष्मी व्रत' कहा जाता है. यह व्रत करने वाले की सब मनोकामना पूर्ण होती है. वह सुख-संपत्ति और यश प्राप्त करता है.' शीला यह सुनकर आनंदित हो गई. शीला ने संकल्प करके आँखें खोली तो सामने कोई न था. वह विस्मित हो गई कि माँजी कहाँ गईं? शीला को तत्काल यह समझते देर न लगी कि माँजी और कोई नहीं साक्षात्‌ लक्ष्मीजी ही थीं. दूसरे दिन शुक्रवार था. सबेरे स्नान करके स्वच्छ कपड़े पहनकर शीला ने माँजी द्वारा बताई विधि से पूरे मन से व्रत किया. आखिरी में प्रसाद वितरण हुआ. यह प्रसाद पहले पति को खिलाया. प्रसाद खाते ही पति के स्वभाव में फर्क पड़ गया. उस दिन उसने शीला को kush नहीं kaha , सताया भी नहीं. उनके मन में 'वैभवलक्ष्मी व्रत' के लिए श्रद्धा बढ़ गई. शीला ने पूर्ण श्रद्धा-भक्ति से इक्कीस शुक्रवार तक 'वैभवलक्ष्मी व्रत' किया. इक्कीसवें शुक्रवार को माँजी के कहे मुताबिक उद्यापन विधि कर के सात स्त्रियों को 'वैभवलक्ष्मी व्रत' की सात पुस्तकें उपहार में दीं. फिर माताजी के 'धनलक्ष्मी स्वरूप' की छबि को वंदन करके भाव से मन ही मन प्रार्थना करने लगीं- 'हे माँ धनलक्ष्मी! मैंने आपका 'वैभवलक्ष्मी व्रत' करने की मन्नत मानी थी, वह व्रत आज पूर्ण किया है. हे माँ! मेरी हर विपत्ति दूर करो.

PowerPoint Presentation:

हमारा सबका कल्याण करो. जिसे संतान न हो, उसे संतान देना. सौभाग्यवती स्त्री का सौभाग्य अखंड रखना. कुँआरी लड़की को मनभावन पति देना. जो आपका यह चमत्कारी वैभवलक्ष्मी व्रत करे, उनकी सब विपत्ति दूर करना. सभी को सुखी करना. हे माँ! आपकी महिमा अपार है.' ऐसा बोलकर लक्ष्मीजी के 'धनलक्ष्मी स्वरूप' की छबि को प्रणाम किया. व्रत के प्रभाव से शीला का पति अच्छा आदमी बन गया और कड़ी मेहनत करके व्यवसाय करने लगा. उसने तुरंत शीला के गिरवी रखे गहन��� छुड़ा लिए. घर में धन की बाढ़ सी आ गई. घर में पहले जैसी सुख-शांति छा गई. 'वैभवलक्ष्मी व्रत' का प्रभाव देखकर मोहल्ले की दूसरी स्त्रियाँ भी विधिपूर्वक 'वैभवलक्ष्मी व्रत' करने लगीं. 

PowerPoint Presentation:

Laxmi Chalisa Doha Maatu Lakshmi Kari Kripaa , Karahu Hriday Mein Vaas I Manokaamanaa Siddh Kari, Puravahu Jan kii Aas I Chauratha Sindhusutaa Main Sumiron Tohii , Jnaan Buddhi Vidyaa Dehu Mohii I Tum Samaan Nahiin Kou Upakaarii , Sab Vidhi Prabhu Aas Hamaarii II Chaupaai

PowerPoint Presentation:

Jai Jai Jagat Janani Jagadambaa , Sab Kii Tumahii Ho Avalambaa Tumahii Ho Ghat Ghat Kii Vaasii , Bintii Yahii Hamarii Khaasii Jagajananii Jay Sindhu Kumaarii , Diinan Kii Tum Ho Hitakaarii Binavon Nitya Tumhe Mahaaraanii , Krapa Karo Jag Janani Bhavaanii Kehi Vidhi Astuti Karon Tihaarii , Sudhi Lijain Aparaadh Bisaarin Krapaadrasti Chitabahu Mam Orii , Jagat Janani Binatii Sunu Morii ? Jnaan Buddhi Jay Sukh Kii Daataa , Sankat Harahu Hamaare Maataa

PowerPoint Presentation:

Kshiir Sindhu Jab Vishnumathaayo , Chaudah Ratn Sindhu Upajaayo Tin Ratnan Manh Tum Sukhraasii , Sevaa Kiinh Banin Prabhudasi Jab Jab Janam Jahaan Prabhu Liinhaa , Ruup Badal Tahan Sevaa Kiinhaa Svayam Vishnu Jab Nar Tanu Dhaaraa , Liinheu Avadhapurii Avataaraa Tab Tum Prakati Janakapur Manhin , Sevaa Kiinh Hraday Pulakaahii Apanaavaa Tohi Antarayaamii , Vishvavidit Tribhuvan Ke Svaamii Tum Samaprabal Shakti Nahi Aanii , Kahan Lagi Mahimaa Kahaun Bakhaanii Man Kram Bachan Karai Sevakaaii , Manuvaanchhint Phal Sahajay Paaii

PowerPoint Presentation:

Taji Chhal Kapat Aur Chaturaai , Puujahi Vividh Bhaanti Man Lai Aur Haal Main Kahahun Bujhaaii , Jo Yah Paath Karai Man Laaii Taakahan Kouu Kast Na Hoii , Manavaanchhit Phal Paavay Soii Traahimahi Jay Duhkh Nivaarini , Vividh Tap Bhav Bandhan HaariniZ Jo Yah Parhen Aur Parhaavay , Dhyan Lagavay Sunay Sunavay Taakon Kou Na Rog Sataavay , Putr Aadi Dhan Sampati Paavay Putrahiin Dhan Sampati Hiinaa , Andh Vadhir Korhii Ati Diinaa Vipr Bulaaii Ken Paath Karaavay , Shaankaa Man Mahan Tanik Na Laavay Path Karaavay Din Chalisa , Taapar Krapaa Karahin Jagadiishaa

PowerPoint Presentation:

Sukh Sampatti Bahut Sii Paavay , Kamii Nanhin Kaahuu Kii Aavay Baarah Maash Karen Jo Puujaa , Ta Sam Dhani Aur Nahin Duujaa Pratidin Paath Karehi Man Manhii , Taasam Jagat Katahun Kou Naahiin Bahuvidhi Kaa Men Karahun Baraaii , Lehu Pariikshaa Dhyaan Lagaaii Kari Vishvaas Karay Brat Nemaa , Hoi Siddh Upajay Ati Prema Jay Jay Jay Lakshmi Mahaaraanii , Sab Mahan Vyaapak Tum Gunkhaanii Tumhro Tej Praval Jag Maannhin , Tum Sam Kou Dayaalu Kahun Naahiin Mo Anaath Kii Sudhi Ab Lijay , Sannkat Kaati Bhakti Bar Dijay

PowerPoint Presentation:

Bhuulchuuk Karu Chhimaa Hamaarii , Darasan Dijay Dasaa Nihaarii Binu Darasan Byaakul Ati Bhaarii , Tumhinn Akshat Paavat Dukh Bhaarii Nahinn Mohi Jnaan Buddhi Hai Tan Mann, Sab Jaanat Tum Apane Man Men Roop Chaturbhuj Kari Nij Dhaaran , Kasht Mor Ab Karahu Nivaaran Kehi Prakaar Mein Karahun Baraaii , Jnaan Buddhi Mohin Nahin Adhikaaii Uthi Kainn Praatakaray Asanaanaa , Jo Kachu Banay Karay So Daanaa Ashtami Ko Brat Karay Ju Praanii , Harashi Hraday Puujahi Mahaaraanii

PowerPoint Presentation:

Solah Din Puujaa Vidhi Karahii , Aashvin Krishn Jo Ashtamii Parahii Takar Sab Chhuutain Dukh Daavaa , So Jan Sukh Sampati Niet Paavaa Doha Traahi Traahi Dukh Haarini , Harahu Begi Sab Traas I Jayati Jayati Jai Lakshmi , Karahu Shatru Ko Naas II Raamadaas Dhari Dhyaan Nit, Vinay Karat Kar Jor I Maatu Lakshmiidas Pay, Karahu Krapaa Kii Kor II

PowerPoint Presentation:

Maha Lakshmi ji Ki Aarti Om Jai Laxmimata , Mayia Jai Laxmimata Tumko Nishdin Sevat , HarVishnu Vidhata - Om Jai Laxmimata Uma Rama Brhmani , Tumhi Jagmata Surya Chandrma Dhyavat , Narad rushi Ghata - Om Jai Laxmi Durga Roop Niranjani , Sukh-Sampattidata Jo Koyi Tumko Dhyata , Rudhdhi-Sidhdhi pata – Om Jai Laxmi Tum Patal Nivasini , Tum hi Subh data Karm-Prabhav-Prakashini , Bhav nidhiki Trata -Om Jai Laxmi Jis Gharme Tum Raheti , Sab sadgun Aata Sab Sambhav Hojata , Man Nahi Ghabarata - Om Jai Laxmi Tum bin Yagna Na Hoye , Vastrana Koyee Pata Khan- Panka Vaibhava , Sab Tumse Aata - Om Jai Laxmi Shubh gun Mandir Sunder, Kshirodadhi jata Ratna Chaturdas Tum bin, Koyee Nahi Pata - Om Jai Laxmi Maha Laxmijiki Aarati , Je Koyee Nar gata Ur Anand Samata , Pap Utar jata - Om Jai Laxmimata Bolo Maha Laxmi Mata ki Jai !!!

PowerPoint Presentation:

Greatness Of Goddess : Patrabhyagvadanman Charan Prakashshalan Bhojan Satseva Pitrudevarchan Vidhihi Satyamgavam Palanam DhanyaNamapi Samgraho NaKalahaschitta Truroopa Priya Drashta Praha Hari Vasmin Kamala Tasmin GruheNischala Significance: I always reside there, where guests are welcomed and offered meals, where virtuous people are rendered services, where God is worshiped and other religious services is done, where truth is observed, where no misdeed is done, where cows are protected, where corn is collected to give for charity, where there is no quarrelling, where wife is contented and polite. At the remaining places, I rarely show my favor .

authorStream Live Help