ram lakshman parshuram samvad

Views:
 
Category: Education
     
 

Presentation Description

No description available.

Comments

Presentation Transcript

jke & y{e.k & ij’qkjke laokn :

jke & y{e.k & ij’qkjke laokn }kjk rqyflnkl

rqylhnkl :

जन्म & रामबोला१४९७ ई० ( संवत १५५४वि० ) राजापुर, उत्तर प्रदेश, भारत गुरु/शिक्षक & नरहरिदास खिताब/सम्मान & गोस्वामी, अभिनववाल्मीकि, इत्यादि कथन & सीयराममय सब जग जानी । करउँ प्रनाम जोरि जुग पानी ॥ rqylhnkl

साहित्यिक कार्य :

रामचरितमानस साहित्यिक कार्य

साहित्यिक कार्य :

साहित्यिक कार्य विनयपत्रिका विनयपत्रिका

साहित्यिक कार्य :

दोहावली साहित्यिक कार्य

साहित्यिक कार्य :

कवितावली साहित्यिक कार्य

साहित्यिक कार्य :

हनुमान चालीसा साहित्यिक कार्य

साहित्यिक कार्य :

वैराग्य सन्दीपनी साहित्यिक कार्य वैराग्य सन्दीपनी

साहित्यिक कार्य :

जानकी मंगल साहित्यिक कार्य

साहित्यिक कार्य :

पार्वती मंगल साहित्यिक कार्य

मृत्यु:

तुलसीदास जी जब काशी के विख्यात् घाट असीघाट पर रहने लगे तो एक रात कलियुग मूर्त रूप धारण कर उनके पास आया और उन्हें पीड़ा पहुँचाने लगा। तुलसीदास जी ने उसी समय हनुमान जी का ध्यान किया। हनुमान जी ने साक्षात् प्रकट होकर उन्हें प्रार्थना के पद रचने को कहा, इसके पश्चात् उन्होंने अपनी अन्तिम कृति विनय-पत्रिका लिखी और उसे भगवान के चरणों में समर्पित कर दिया। श्रीराम जी ने उस पर स्वयं अपने हस्ताक्षर कर दिये और तुलसीदास जी को निर्भय कर दिया। संवत्‌ १६८० में श्रावण कृष्ण तृतीया शनिवार को तुलसीदास जी ने "राम-राम" कहते हुए अपना शरीर परित्याग किया। मृत्यु

ikB dk ifjp;:

'राम-लक्ष्मण-परशुराम संवाद' बालकांड से लिया गया है। यह तुलसीदास द्वारा रचित है। इस काव्यांश में सीता-स्वयंवर के समय का वर्णन है। शिव धनुष भंग होने का समाचार सुनकर परशुराम क्रोधित होकर सभा में उपस्थित हो जाते हैं। वह उस व्यक्ति पर बहुत क्रोधित होते हैं, जिसने उनके आराध्य देव शिव का धनुष तोड़ा है। वह उसे दण्ड देने के उद्देश्य से सभा में पुकारते हैं। यहीं से राम-लक्ष्मण-परशुराम संवाद का आरंभ होता है। स्थिति को बिगड़ती देखकर राम विनम्र भाव से उनका क्रोध शान्त करने का प्रयास करते हैं। परशुराम को राम के वचन अच्छे नहीं लगते। लक्ष्मण अपने भाई के साथ ऋषि का ऐसा व्यवहार देखकर स्वयं को रोक नहीं पाते। इस तरह इस संवाद में उनका आगमन भी हो जाता है। वह परशुराम जी पर नाना प्रकार के व्यंग्य कसते हैं। ikB dk ifjp ;

PowerPoint Presentation:

उनके व्यंग्य परशुराम को शूल के समान चुभते हैं। उनका क्रोध कम होने के स्थान पर बढ़ता जाता है। परशुराम अपने अंहकार के कारण सभी क्षत्रियों का अपमान करते हैं। लक्ष्मण को यह सहन नहीं होती। वह भी उनके कटाक्षों का उत्तर कटाक्षों में देते हैं। अंत में उनके द्वारा ऐसी अप्रिय बात बोल दी जाती है, जिसके कारण सभा में हाहाकार मच जाता है। राम स्थिति को और बिगड़ती देखकर लक्ष्मण को चुप रहने का संकेत करते हैं। वह परशुराम के क्रोध को शान्त करने का प्रयास करते हैं।

rqylhnkl:

rqylhnkl

jke & y{e.k & ij’qkjke laokn :

ukFk laHkq / uq HkatfugkjkA gksbfg dsm ,d nkl rqEgkjkAA vk;slq dkg dfgv fdu eksghA lqfu fjlkb cksys eqfu dksghAA lsodsQ lks tks djS lsodkbZA vfjdjuh dfj dfjv yjkbZAA lqugq jke tsfg floekuq rksjkA lglckgq le lks fjiq eksjkAA lks fcyxkm fcgkb lektkA u r ekjs tSgfga lc jktkAA lqfu eqfucpu y[ ku eqlqdkusA cksys ijlqekjfg voekusAA cgq ekuqgh rksjh yfjdkbZaA dcgqWa u vfl fjl dhfUg xkslkbZaAA ; sfg ekuq ij eerk osQfg gsrwA lqfu fjlkb dg Hk`xqdqydsrwAA js u`ickyd dkycl cksyr rksfg u lWaHkkjA ekuqgh le f= kiqjkfj /kuq fcfnr ldy lalkjAA jke & y{e.k & ij’qkjke laokn

PowerPoint Presentation:

y[ ku dgk gfl gejs tkukA lqugq nso lc ekuq"k lekukAA dk Nfr ykHkq twu ekuq rksjasA ns[ kk jke u;u HkksjasAA Nqvr VwV j?kqifrgq u nkslwA eqfu fcuq dkt dfjv dr jkslwAA cksys fprS ijlq dh vksjkA js lB lqusfg lqHkkm u eksjkAA ckydsQ cksfy cekkSa ufg rksghA dsoy eqfu tM + tkufg eksghAA cky czapkjh vfr dksghA fcLofcfnr { kf = k;dsQy nzksghAA Hkqtcy Hkwfe Hkwi fcuq dhUghA fciqy ckj efgnsoUg nhUghAA lglckgqHkqt NsnfugkjkAijlq fcyksdsQ eghidsQekjkAA ekrq firfg tfu lkspcl djfl eghlfdlksjA xHkZUg vHkZd nyu ijlq eksj vfr ? kksjAA

PowerPoint Presentation:

fcgfl y[kuq cksys e`nq ckuhA vgks equhlq egkHkV ekuhAA iqfu iqfu eksfg ns[ kko dsQBk#A pgr mM+kou iwWaQfd igk:AA bgkWa dsQEgM+cfr;k dksm ukghaAts rjtuh nsf [k efj tkgha AA nsf [k dsQBk # ljklu ckukA eSa dNq dgk lfgr vfHkekukAA Hk`xqlqr leqf > tusm fcyksdhA tks dNq dggq lgkSa fjl jksdhAA lqj efglqj gfjtu v# xkbZA gejs dsQy bUg ij u lqjkbZAA ceksa ikiq vidhjfr gkjsaA ekjrgw ik ifjv rqEgkjsaAA dksfV dsQfyl le cpuq rqEgkjkA C;FkZ ekjgq ekuq cku dsQBkjkAA tks fcyksfd vuqfpr dgsmWa Negq egkeqfu ekhjA lqfu ljks"k Hk`xqcalefu cksys fxjk xaHkhjAA

PowerPoint Presentation:

dkSfld lqugq ean ; sgq ckydsQA dsQfVyq dkycl fut dsQy ? kkydsQAA Hkkuqcal jkosQl dyaowQA fuiV fujadsQlq vcqekq vlaowQAA dkydoyq gksbfg Nu ekghaA dgkSa iqdkfj [ kksfj eksfg ukghaAA rqEg gVdgq tkS pggq mckjkA dfg izrkiq cyq jks"kq gekjkAA y[ ku dgsm eqfu lqtlq rqEgkjkA rqEgfg vNr dks cjuS ikjkAA vius eqgq rqEg vkifu djuhA ckj vusd HkkWafr cgq cjuhAA ufg larks"kq r iqfu dNq dggwA tfu fjl jksfd nqlg nq [k lggwAA chjczrh rqEg ekhj vNksHkkA xkjh nsr u ikogq lksHkkAA lwj lej djuh djfga dfg u tukofga vkiqA fc|eku ju ikb fjiq dk;j dFkfga izrkiqAA

PowerPoint Presentation:

rqEg rkS dkyq gkWad tuq ykokA ckj ckj eksfg ykfx cksykokAA lqur y[ ku cpu dBksjkA ijlq lqekkfj ekjsm dj ? kksjkAA vc tfu nsb nkslq eksfg yksxwA dVqcknh ckydsQ cektksxwAA cky fcyksfd cgqr eSa ckWapkA vc ; sgq ejfugkj Hkk lkWapkAA dkSfld dgk Nfev vijkekwA cky nks"k xqu xu ̄g u lkekwAA [ kj dsQBkj eSa vd#u dksghA vkxs vijkekh xq#aksghAA mrj nsr NksM+kSa fcuq ekjsA osQoy dkSfld lhy rqEgkjsAA u r ; sfg dkfV dsQBkj dBksjsA xqjfg mfju gksrsmWa Je FkksjsAA xkfeklw uq dg an; gfl eqfufg gfj;js lw >A v;e ; [ kkWaM + u A[ ke ; vtgqWa u cw > vcw >AA

PowerPoint Presentation:

dgsm y[ ku eqfu lhyq rqEgkjkA dks ufg tku fcfnr lalkjkAA ekrk firfg mfju Hk;s uhosaQA xqjfjuq jgk lkspq cM + th osaQAA lks tuq gejsfg ekFksa dk <+kA fnu pfy x;s C;kt cM + ck<+ kAA vc vkfuv C;ogfjvk cksyhA rqjr nsmWa eSa FkSyh [ kksyhAA lqfu dVq cpu dsQBkj lqekkjkA gk ; gk ; lc lHkk iqdkjkAA Hk`xqcj ijlq ns[ kkcgq eksghAfciz fcpkfj cpkSa u`inzksghAA feys u dcgwWa lqHkV ju xk <+ sA f} tnsork ? kjfg ck<+ sAA vuqfpr dfg lcq yksxq iqdkjsA j?kqifr l;ufg y[kuq usokjsAA y[ ku mrj vkgqfr lfjl Hk`xqcjdksiq NlkuqA c<+r nsf [k ty le cpu cksys j?kqdsQyHkkuqAA

:

Hkatfugkjk & Hkax djus okyk ] rksM+us okyk fjlkb & ozQksek djuk fjiq & 'k= kq fcyxkm & vyx gksuk voekus & vieku djuk yfjdkb ― & cpiu esa ijlq & iQjlk ] dsQYgkM+h dh rjg dk ,d ' kL =k (; gh ij'kqjke dk izeq [k ' kL =k Fkk ) dksgh & ozQksekh efgnso & czka.k fcyksd & ns[ kdj vHkZd & cPpk ' kCn&laink

PowerPoint Presentation:

egkHkV & egku ; ks.k egh & ekjrh dsQBkjQ & dsQYgkM+k dsQEgM+cfr;k & cgqr de”kksj ] fucZy O;fDr ] dk'khiQy ;k dsQEgM+s dk cgqr NksVk iQy rjtuh & vWaxwBs osQ ikl dh mWaxyh dsQfyl & dBksj ljks"k & ozQksek lfgr dkSfld & fo'okfe = Hkkuqcal & lw;Zoa'k fujadql & ftl ij fdlh dk nckc u gks ] euekuh djus okyk

PowerPoint Presentation:

vlaowQ & ' kadk jfgr ? kkydsQ & uk'k djus okyk dkydoyq & ftls dky us viuk xzkl cuk fy;k gks ] e`r vcqekq & ukle > [ kksfj & nks"k gVdg & euk djus ij vNksHkk & ' kkar ] ekhj ] tks ? kcjk;k u gks cektksxw & ekjus ; ksX ; vd#u & ftlesa d#.kk u gks xkfeklw & xkfek osQ iq =k ; kuh fo'okfe =k v;e ; & yksgs dk cuk gqvk usokjs & euk djuk mQ [ ke ; & xUus ls cuk gqvk o`Qlkuq & vfXu

PowerPoint Presentation:

iz'u

PowerPoint Presentation:

ij'kqjke ds dzks /k djus ij y{e.k us / kuq"k ds VwV tkus ds fy , dkSu&dkSu ls rdZ fn,\ ij'kqjke ds dzks /k djus ij jke vkSj y{e.k dh tks izfrfdz;k,Wa gqbZa muds vkekkj ij nksuksa ds LoHkko dh fo'ks"krk,Wa vius ' kCnksa esa fyf [ k,A y{e.k vkSj ij'kqjke ds laokn dk tks va'k vkidks lcls vPNk yxk mls vius ' kCnksa esa laokn ' kSyh esa fyf [ k,A ij'kqjke us vius fo"k ; esa lHkk esa D;k&D;k dgk ] fuEu i|ka'k vkekkj ij fyf [k, μ cky czapkjh vfr dksghA fcLofcfnr { kf = k;dsQy nzksghAA Hkqtcy Hkwfe Hkwi fcuq dhUghA fciqy ckj efgnsoUg nhUghAA lglckgqHkqt NsnfugkjkAijlq fcyksdsQ eghidsQekjkAA ekrq firfg tfu lkspcl djfl eghlfdlksjA xHkZUg vHkZd nyu ijlq eksj vfr ? kksjAA

PowerPoint Presentation:

y{e.k us ohj ; ks )k dh D;k&D;k fo'ks"krk,Wa crkbZa \ lkgl vkSj ' kfDr lkFk fouezrk gks rks csgrj gSA bl dFku ij vius fopkj fyf [ k,A Hkko Li"V dhft , μ 1- fcgfl y[kuq cksys e`nq ckuhA vgks equhlq egkHkV ekuhAA iqfu iqfu eksfg ns[ kko dqBk:A pgr mM+kou QwWafd igk:AA 2- bgkWa dqEgM+cfr;k dksm ukghaA ts rjtuh nsf [k efj tkghaAA nsf [k dqBk # ljklu ckukA eSa dNq dgk lfgr vfHkekukAA 3- xkf / kklw uq dg an; gfl eqfufg gfj;js lw >A v;e ; [ kkWaM + u m[ ke ; vtgqWa u cw > vcw >AA ikB ds vkekkj ij rqylh ds Hkk"kk lkSan;Z ij nl iafDr;kWa fyf [ k,A

PowerPoint Presentation:

bl iwjs izlax esa O;aX ; dk vuwBk lkSan;Z gSA mnkgj.k ds lkFk Li"V dhft,A fuEufyf [ kr iafDr;ksa esa iz;qDr vyadkj igpku dj fyf [k, μ 1- ckydsQ cksfy cekkSa ufg rksghA 2- dksfV dsQfyl le cpuq rqEgkjkA 3- rqEg rkS dkyq gkWad tuq ykokA ckj ckj eksfg ykfx cksykokAA 4- y[ ku mrj vkgqfr lfjl Hk`xqcjdksiq NlkuqA c<+r nsf [k ty le cpu cksys j?kqdsQyHkkuqAA

PowerPoint Presentation:

mRrj

PowerPoint Presentation:

mRrj 1- परशुराम के क्रोध करने पर लक्ष्मण ने धनुष के टूट जाने पर निम्नलिखित तर्क दिए – (1 हमें तो यह असाधारण शिव धुनष साधारण धनुष की भाँति लगा । (2 श्री राम को तो ये धनुष , नए धनुष के समान लगा ।  (3 श्री राम ने इसे तोड़ा नहीं बस उनके छूते ही धनुष स्वत : टूट गया । (4 इस धनुष को तोड़ते हुए उन्होंने किसी लाभ व हानि के विषय में नहीं सोचा था । (5 उन्होंने ऐसे अनेक धनुषों को बालपन में यूँ ही तोड ़ दिया था । इसलिए यही सोचकर उनसे यह कार्य हो गया ।  

PowerPoint Presentation:

mRrj 2- परशुराम के क्रोध करने पर श्री राम ने धीरज से काम लिया । उन्होंने नम्रता पूर्ण वचनों का सहारा लेकर परशुराम के क्रोध को शांत करने का प्रयास किया । परशुराम जी क्रोधी स्वभाव के थे । श्री राम उनके क्रोध पर शीतल जल के समान शब्दों व आचरण का आश्रय ले रहे थे । यही कारण था कि उन्होंने स्वयं को उनका सेवक बताया व उनसे अपने लिए आज्ञा करने का निवेदन किया । उनकी भाषा अत्यंत कोमल व मीठी थी और परशुराम के क्रोधित होने पर भी वह अपनी कोमलता को नहीं छोड़ते थे । इसके विपरीत लक्ष्मण परशुराम की भाँति ही क्रोधी स्वभाव के हैं । निडरता तो जैसे उनके स्वभाव में कूट-कूट कर भरी है ।

PowerPoint Presentation:

इसलिए परशुराम का फरसा व क्रोध उनमें भय उत्पन्न नहीं कर पाता । लक्ष्मण परशुराम जी के साथ व्यंग्यपूर्ण वचनों का सहारा लेकर अपनी बात को उनके समक्ष प्रस्तुत करते हैं । तनिक भी इस बात की परवाह किए बिना कि परशुराम कहीं और क्रोधित न हो जाएँ । वे परशुराम के क्रोध को न्यायपूर्ण नहीं मानते । इसलिए परशुराम के अन्याय के विरोध में खड़े हो जाते हैं । जहाँ राम विनम्र धैर्यवान मृदुभाषी व बुद्धिमान व्यक्ति हैं वहीं दूसरी ओर लक्ष्मण निडर साहसी क्रोधी तथा अन्याय विरोधी स्वभाव के हैं । ये दोनों गुण इन्हें अपने-अपने स्थान पर उच्च स्थान प्राप्त करवाते हैं ।

PowerPoint Presentation:

mRrj 3- लक्ष्मण - हे मुनि Wa बचपन में हमने खेल-खेल में ऐसे बहुत से धनुष तोड़े हैं तब तो आप कभी क्रोधित नहीं हुए थे। फिर इस धनुष के टूटने पर इतना क्रोध क्यों कर रहे हैं A

PowerPoint Presentation:

mRrj 4- परशुराम ने अपने विषय में ये कहा कि वे बाल ब्रह्मचारी हैं और क्रोधी स्वभाव के हैं। समस्त विश्व में क्षत्रिय कुल के विद्रोही के रुप में विख्यात हैं। वे आगे, बढ़े अभिमान से अपने विषय में बताते हुए कहते हैं कि उन्होंने अनेकों बार पृथ्वी को क्षत्रियों से विहीन कर इस पृथ्वी को ब्राह्मणों को दान में दिया है और अपने हाथ में धारण इस फरसे से सहस्त्रबाहु के बाहों को काट डाला है। इसलिए हे नरेश पुत्र Wa मेरे इस फरसे को भली भाँति देख ले।राजकुमार Wa तू क्यों अपने माता-पिता को सोचने पर विवश कर रहा है। मेरे इस फरसे की भयानकता गर्भ में पल रहे शिशुओं को भी नष्ट कर देती है।

PowerPoint Presentation:

mRrj 5- लक्ष्मण ने वीर योद्धा की निम्नलिखित विशेषताएँ बताई है - (1) वीर पुरुष स्वयं अपनी वीरता का बखान नहीं करते अपितु वीरता पूर्ण कार्य स्वयं वीरों का बखान करते हैं। (2) वीर पुरुष स्वयं पर कभी अभिमान नहीं करते। वीरता का व्रत धारण करने वाले वीर पुरुष धैर्यवान और क्षोभरहित होते हैं। (3) वीर पुरुष किसी के विरुद्ध गलत शब्दों का प्रयोग नहीं करते। अर्थात् दूसरों को सदैव समान रुप से आदर व सम्मान देते हैं। (4) वीर पुरुष दीन-हीन, ब्राह्मण व गायों, दुर्बल व्यक्तियों पर अपनी वीरता का प्रदर्शन नहीं करते हैं। उनसे हारना व उनको मारना वीर पुरुषों के लिए वीरता का प्रदर्शन न होकर पाप का भागीदार होना है। (5) वीर पुरुषों को चाहिए कि अन्याय के विरुद्ध हमेशा निडर भाव से खड़े रहे। (6) किसी के ललकारने पर वीर पुरुष कभी पीछे कदम नहीं रखते अर्थात् वह यह नहीं देखते कि उनके आगे कौन है वह निडरता पूर्वक उसका जवाब देते हैं।

PowerPoint Presentation:

mRrj 6- साहस और शक्ति ये दो गुण एक व्यक्ति को (वीर) श्रेष्ठ बनाते हैं। यदि किसी व्यक्ति में साहस विद्यमान है तो शक्ति स्वयं ही उसके आचरण में आ जाएगी परन्तु जहाँ तक एक व्यक्ति को वीर बनाने में सहायक गुण होते हैं वहीं दूसरी ओर इनकी अधिकता एक व्यक्ति को अभिमानी व उद्दंड बना देती है। कारणवश या अकारण ही वे इनका प्रयोग करने लगते हैं। परन्तु यदि विन्रमता इन गुणों के साथ आकर मिल जाती है तो वह उस व्यक्ति को श्रेष्ठतम वीर की श्रेणी में ला देती है जो साहस और शक्ति में अहंकार का समावेश करती है। विनम्रता उसमें सदाचार व मधुरता भर देती है,वह किसी भी स्थिति को सरलता पूर्वक शांत कर सकती है। जहाँ परशुराम जी साहस व शक्ति का संगम है। वहीं राम विनम्रता, साहस व शक्ति का संगम है। उनकी विनम्रता के आगे परशुराम जी के अहंकार को भी नतमस्तक होना पड़ा नहीं तो लक्ष्मण जी के द्वारा परशुराम जी को शांत करना सम्भव नहीं था।

PowerPoint Presentation:

mRrj 7- (क)  बिहसि लखनु बोले मृदु बानी। अहो मुनीसु महाभट मानी||       पुनि पुनि मोहि देखाव कुठारू। चहत उड़ावन फूँकि पहारू|| प्रसंग  -  प्रस्तुत पंक्तियाँ तुलसीदास द्वारा रचित रामचरितमानस से ली गई हैं। उक्त पंक्तियों में लक्ष्मण जी द्वारा परशुराम जी के बोले हुए अपशब्दों का प्रतिउत्तर दिया गया है। भाव  -  भाव यह है कि लक्ष्मण जी मुस्कराते हुए मधुर वाणी में परशुराम पर व्यंग्य कसते हुए कहते हैं कि हे मुनि आप अपने अभिमान के वश में हैं। मैं इस संसार का श्रेष्ठ योद्धा हूँ। आप मुझे बार-बार अपना फरसा दिखाकर डरा रहे हैं। आपको देखकर तो ऐसा लगता है मानो फूँक से पहाड़ उड़ाने का प्रयास कर रहे हों। अर्थात् जिस तरह एक फूँक से पहाड़ नहीं उड़ सकता उसी प्रकार मुझे बालक समझने की भूल मत किजिए कि मैं आपके इस फरसे को देखकर डर जाऊँगा।

PowerPoint Presentation:

(ख) इहाँ कुम्हड़बतिया कोउ नाहीं। जे तरजनी देखि मरि जाहीं||       देखि कुठारु सरासन बाना। मैं कछु कहा सहित अभिमाना|| प्रसंग  -  प्रस्तुत पंक्तियाँ तुलसीदास द्वारा रचित रामचरितमानस से ली गई हैं। उक्त पंक्तियों में लक्ष्मण जी द्वारा परशुराम जी के बोले हुए अपशब्दों का प्रतिउत्तर दिया गया है। भाव  -  भाव यह है कि लक्ष्मण जी अपनी वीरता और अभिमान का परिचय देते हुए कहते हैं कि हम भी कोई कुम्हड़बतिया नहीं है जो किसी की भी तर्जनी देखकर मुरझा जाएँ। मैंने फरसे और धनुष-बाण को अच्छी तरह से देख लिया है। इसलिए ये सब आपसे अभिमान सहित कह रहा हूँ। अर्थात् हम कोमल पुष्पों की भाँति नहीं हैं जो ज़रा से छूने मात्र से ही मुरझा जाते हैं। हम बालक अवश्य हैं परन्तु फरसे और धनुष-बाण हमने भी बहुत देखे हैं इसलिए हमें नादान बालक समझने का प्रयास न करें।

PowerPoint Presentation:

(ग) गाधिसू नु कह हृदय हसि मुनिहि हरियरे सूझ।      अयमय खाँड़ न ऊखमय अजहुँ न बूझ अबूझ|| प्रसंग  -  प्रस्तुत पंक्तियाँ तुलसीदास द्वारा रचित रामचरितमानस से ली गई हैं। उक्त पंक्तियाँ में परशुराम जी द्वारा बोले गए वचनों को सुनकर विश्वामित्र मन ही मन परशुराम जी की बुद्धि और समझ पर तरस खाते हैं। भाव  -  भाव यह है कि विश्वामित्र अपने हृदय में मुस्कुराते हुए परशुराम की बुद्धि पर तरस खाते हुए मन ही मन कहते हैं कि गधि-पुत्र अर्थात् परशुराम जी को चारों ओर हरा ही हरा दिखाई दे रहा है तभी तो वह दशरथ पुत्रों को (राम व लक्ष्मण) साधारण क्षत्रिय बालकों की तरह ही ले रहे हैं। जिन्हें ये गन्ने की खाँड़ समझ रहे हैं वे तो लोहे से बनी तलवार (खड़ग) की भाँति हैं। अर्थात् वे भगवान विष्णु के रुप राम व लक्ष्मण को साधारण मानव बालकों की भाँति ले रहे हैं। वे ये नहीं जानते कि जिन्हें वह गन्ने की खाँड़ की तरह कमज़ोर समझ रहे हैं पल भर में वे इनको अपने फरसे से काट डालेंगे। यह नहीं जानते कि ये लोहे से बनी तलवार की भाँति हैं। इस समय परशुराम की स्थिति सावन के अंधे की भाँति हो गई है। जिन्हें चारों ओर हरा ही हरा दिखाई दे रहा है अर्थात् उनकी समझ अभी क्रोध व अहंकार के वश में है।

PowerPoint Presentation:

mRrj 8- तुलसीदास द्वारा लिखित रामचरितमानस अवधी भाषा में लिखी गई है। यह काव्यांश रामचरितमानस के बालकांड से ली गई है। इसमें अवधी भाषा का शुद्ध रुप में प्रयोग देखने को मिलता है। तुलसीदास ने इसमें दोहा, छंद, चौपाई का बहुत ही सुंदर प्रयोग किया है। जिसके कारण काव्य के सौंदर्य तथा आनंद में वृद्धि हुई है और भाषा में लयबद्धता बनी रही है। तुलसीदास जी ने अलंकारो के सटीक प्रयोग से इसकी भाषा को और भी सुंदर व संगीतात्मक बना दिया है। इसकी भाषा में अनुप्रास अलंकार, रुपक अलंकार, उत्प्रेक्षा अलंकार, व पुनरुक्ति अलंकार की अधिकता मिलती है। इस काव्याँश की भाषा में व्यंग्यात्मकता का सुंदर संयोजन हुआ है।

PowerPoint Presentation:

mRrj 9- तुलसीदास द्वारा रचित रामचरितमानस के इस कांव्याँश में तुलसीदास जी ने लक्ष्मण जी के माध्यम से स्थान-स्थान पर व्यंग्य का अनूठा प्रयोग किया है। उदाहरण के लिए - (1) बहु धनुही तोरी लरिकाईं। कबहुँ न असि रिस कीन्हि गोसाईं|| लक्ष्मण जी परशुराम जी से धनुष को तोड़ने का व्यंग्य करते हुए कहते हैं कि हमने अपने बालपन में ऐसे अनेकों धनुष तोड़े हैं तब हम पर कभी क्रोध नहीं किया। (2) गाधिसू नु कह हृदय हसि मुनिहि हरियरे सूझ।     अयमय खाँड़ न ऊखमय अजहुँ न बूझ अबूझ|| यहाँ विश्वामित्र जी परशुराम की बुद्धि पर मन ही मन व्यंग्य कसते हैं और मन ही मन कहते हैं कि परशुराम जी राम, लक्ष्मण को साधारण बालक समझ रहे हैं। उन्हें तो चारों ओर हरा ही हरा सूझ रहा है जो लोहे की तलवार को गन्ने की खाँड़ से तुलना कर रहे हैं।

PowerPoint Presentation:

mRrj 10- (क) बालकु बोलि बधौं नहि तोही। अनुप्रास अलंकार  - उक्त पंक्ति में 'ब' वर्ण की एक से अधिक बार आवृत्ति हुई है, इसलिए यहाँ अनुप्रास अलंकार है। (ख) कोटि कुलिस सम बचनु तुम्हारा। (1)  अनुप्रास अलंकार  - उक्त पंक्ति में 'क' वर्ण की एक से अधिक बार आवृत्ति हुई है, इसलिए यहाँ अनुप्रास अलंकार है। (2)  उपमा अलंकार   - कोटि कुलिस सम बचनु में उपमा अलंकार है। क्योंकि परशुराम जी के एक-एक वचनों को वज्र के समान बताया गया है।

PowerPoint Presentation:

(ग)तुम्ह तौ कालु हाँक जनु लावा।    बार बार मोहि लागि बोलावा|| (1)  उत्प्रेक्षा अलंकार  - 'काल हाँक जनु लावा' में उत्प्रेक्षा अलंकार है। यहाँ जनु उत्प्रेक्षा का वाचक शब्द है। (2)  पुनरुक्ति प्रकाश अलंकार   - 'बार-बार' में पुनरुक्ति प्रकाश अलंकार है। क्योंकि बार शब्द की दो बार आवृत्ति हुई पर अर्थ भिन्नता नहीं है।

PowerPoint Presentation:

(घ)लखन उतर आहुति सरिस भृगुबरकोपु कृसानु।      बढ़त देखि जल सम बचन बोले रघुकुलभानु|| (1)  उपमा अलंकार ( i )  उतर आहुति  सरिस  भृगुबरकोपु कृसानु में उपमा अलंकार है ( ii)  जल सम बचन  में भी उपमा अलंकार है क्योंकि भगवान राम के मधुर वचन जल के समान कार्य रहे हैं। (2) रुपक अलंकार  -  रघुकुलभानु में रुपक अलंकार है यहाँ श्री राम को रघुकुल का सूर्य कहा गया है। श्री राम के गुणों की समानता सूर्य से की गई है।

;g Hkh tkusa:

nksgk nksgk ,d yksdfiz ; ekf =d Nan gS ftldh igyh vkSj rhljh iafDr esa 13&13 ek = kk,Wa gksrh gSa vkSj nwljh vkSj pkSFkh iafDr esa 11&11 ek = kk,WaA pkSikbZ ekf =d Nan pkSikbZ pkj iafDr;ksa dk gksrk gS vkSj bldh izR;sd iafDr esa 16 ek = kk,Wa gksrh gSaA ;g Hkh tkusa

ij'kqjke vkSj lglzckgq dh dFkk:

ikB esa ^ lglckgq le lks fjiq eksjk * dk dbZ ckj mYYks [k vk;k gSA ij'kqjke vkSj lglzckgq osQ cSj dh vusd dFkk,Wa izpfyr gSaA egkHkkjr osQ vuqlkj ;g dFkk bl izdkj gS μ ij'kqjke . f"k tenfXu osQ iq =k FksA ,d ckj jktk dkrZoh;Z lglzckgq f'kdkj [ ksyrs gq , tenfXu osQ vkJeesa vk,A tenfXu osQ ikl dkeeksuq xk ; Fkh tks fo'ks"k xk ; Fkh ] dgrs gSa og lHkh dkeuk,Wa iwjh djrh FkhA dkrZoh;Z lglzckgq us . f"k tenfXu ls dkeeksuq xk ; dh ekWax dhA . f"k }kjk euk fd , tkus ij lglzckgqus dkeeksuq xk ; dk cyiwoZd vigj.k dj fy;kA bl ij ozQksfekr gks ij'kqjke us lglzckgq dk oek dj fn;kA bl dk;Z dh . f"k tenfXu us cgqr fauank dh vkSj ij'kqjke dks izk;f'pr djus dks dgkA mekj lglzckgq iq = kksa us ozQksek esa vkdj . f"k tenfXu dk oek dj fn;kA bl ij iqu % ozQksfekr gksdj ij'kqjke us i`Foh dks { kf =k; foghu djus dh izfrKk dhA ij'kqjke vkSj lglzckgq dh dFkk