alankar

Views:
 
Category: Entertainment
     
 

Presentation Description

No description available.

Comments

Presentation Transcript

Slide 1:

अलंकार

Slide 2:

मानव समाज सौन्दर्योपासक है ,उसकी इसी प्रवृत्ति ने अलंकारों को जन्म दिया है। शरीर की सुन्दरता को बढ़ाने के लिए जिस प्रकार मनुष्य ने भिन्न -भिन्न प्रकार के आभूषण का प्रयोग किया ,उसी प्रकार उसने भाषा को सुंदर बनाने के लिए अलंकारों का सृजन किया।  काव्य की शोभा बढ़ाने वाले शब्दों को अलंकार कहते है । जिस प्रकार नारी के सौन्दर्य को बढ़ाने के लिए आभूषण होते है,उसी प्रकार भाषा के सौन्दर्य के उपकरणों को अलंकार कहते है। इसीलिए कहा गया है - 'भूषण बिना न सोहई -कविता ,बनिता मित्त।' अलंकार

अलंकार के भेद :

इसके तीन भेद होते है १. शब्दालंकार   २. अर्थालंकार   ३. उभयालंकार       अलंकार के भेद

शब्दालंकार:

जिस अलंकार में शब्दों के प्रयोग के कारण कोई चमत्कार उपस्थित हो जाता है और उन शब्दों के स्थान पर समानार्थी दूसरे शब्दों के रख देने से वह चमत्कार समाप्त हो जाता है,वह पर शब्दालंकार माना जाता है। शब्दालंकार के प्रमुख भेद है – १.अनुप्रास २.यमक ३.शेष शब्दालंकार

अनुप्रास:

अनुप्रास शब्द 'अनु' तथा 'प्रास' शब्दों के योग से बना है । 'अनु' का अर्थ है :- बार- बार तथा 'प्रास' का अर्थ है - वर्ण । जहाँ स्वर की समानता के बिना भी वर्णों की बार -बार आवृत्ति होती है ,वहाँ अनुप्रास अलंकार होता है । इस अलंकार में एक ही वर्ण का बार -बार प्रयोग किया जाता है । जैसे - जन रंजन मंजन दनुज मनुज रूप सुर भूप । विश्व बदर इव धृत उदर जोवत सोवत सूप । । अनुप्रास

यमक अलंकार:

जहाँ एक ही शब्द अधिक बार प्रयुक्त हो ,लेकिन अर्थ हर बार भिन्न हो ,वहाँ यमक अलंकार होता है। उदाहरण - कनक कनक ते सौगुनी ,मादकता अधिकाय । वा खाये बौराय नर ,वा पाये बौराय। । यहाँ कनक शब्द की दो बार आवृत्ति हुई है जिसमे एक कनक का अर्थ है - धतूरा और दूसरे का स्वर्ण है । यमक   अलंकार

Slide 7:

NAME :RITIKA CLASS : VIII ROLL NO : 5

श्लेष अलंकार:

जहाँ पर ऐसे शब्दों का प्रयोग हो ,जिनसे एक से अधिक अर्थ निलकते हो ,वहाँ पर श्लेष अलंकार होता है । जैसे - चिरजीवो जोरी जुरे क्यों न सनेह गंभीर । को घटि ये वृष भानुजा ,वे हलधर के बीर। । श्लेष अलंकार

अर्थालंकार:

जहाँ अर्थ के माध्यम से काव्य में चमत्कार उत्पन्न होता है ,वहाँ अर्थालंकार होता है । इसके प्रमुख भेद है – १.उपमा २.रूपक ३.उत्प्रेक्षा ४.दृष्टान्त ५.संदेह ६.अतिशयोक्ति अर्थालंकार

उभयालंकार:

जहाँ काव्य में शब्द और अर्थ दोनों का चमत्कार एक साथ उत्पन्न होता है ,वहाँ उभयालंकार होता है । उदाहरण - ' कजरारी अंखियन में कजरारी नलखाय।' इस अलंकार में शब्द और अर्थ दोनों है। उभयालंकार

authorStream Live Help